#snippetsonlife1 – Life and Its Sense of Humor

Life never fails to amaze me with its quirky sense of humor. It has its own way of maneuvering things that seldom suits our wishlist. No matter how many rules we follow in life, Life never follows any of our rules. Forget about rules, it does not even consider our wish, hope, faith, belief, nothing at … Continue reading #snippetsonlife1 – Life and Its Sense of Humor

Top 5 Ghazals from the man with a Golden voice- Jagjit Singh

The Golden voice of Jagjit Singh (Source - Internet)My playlist has always been stuffed with ghazals. The credit goes to my elder brother (Bhaiya) who introduced me to this beautiful blend of romance and melancholy years back. I still remember he bought a cassette (yes, back then CDs didn't hit the stores) of ghazals, which he … Continue reading Top 5 Ghazals from the man with a Golden voice- Jagjit Singh

Hindi Poetry: Purani Yaadon ki Galion Mein

पुरानी यादों की गलिओं में टहलना हमने बंध कर दिया है जाने वो कौनसा लम्हा था जो अब भी उन्ही गालियों में रहता है? वो गालियाँ जो रंजिशों के मोहल्ले से गुज़र कर बेबसी के कूचे तक जा पोहचती है. वो तंग सी गलियां जहाँ अधूरी कहानियाँ अब भी मजबूरियों की महफिले सजाती है। पुरानी … Continue reading Hindi Poetry: Purani Yaadon ki Galion Mein

Hindi Poetry – Mujhe Naye Dharm Ki Zaroorat Nahi

मुझे नए धर्म की ज़रुरत नहीं गलत ही सही, इंसान बजाऊं मुझ मेरा ईश्वर मिल जायेगा मुझे जीने का सलीखा आजाएगा मुझे नए धर्म की ज़रुरत नहीं जब खुद ही खुद से मिल पाऊँगी मुझे ईश्वर तक का रास्ता मिल जायेगा मुझे इस जीवन का अर्थ मिल जायेगा मुझे नए धर्म की ज़रुरत नहीं पहले … Continue reading Hindi Poetry – Mujhe Naye Dharm Ki Zaroorat Nahi

Hindi Poetry – Filhaal

सूबह आँख खुली तो देखा दिन की पेहली किरण बाहें खोले मेरे उठने का इंतेज़ार कर रही थी कुछ नई उम्मीदें थी कुछ पुरानी परछाईयाँ। दरिचे से बाहर झाकं तो देखा नीले आस्मां के तले हरा भरा बरगद का पेड़ रहे तक रहा था कुछ वक़्त की कहानियाँ थी कुछ धुप छाओं की ठिठोलिया। पर कमरे की और एक नज़र दोराई तो पाया चार दीवारों के … Continue reading Hindi Poetry – Filhaal